सचिन तेंदुलकर जीवन परिचय (Sachin Tendulkar Life Story)

 सचिन तेंदुलकर की शिक्षा, जन्‍म स्‍थान,परिवारिक जानकारी (Sachin Tendulkar Life Story: Birth, Education and Family   Information, Career, Award, Matchs)

सचिन तेंदुलकर क्रिकेट के इतिहास में विश्‍व के सर्वश्रेष्‍ठ बल्‍लेबाज में माने जाते हैं। सचिन तेंदुलकर को किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं इन्‍हें दुनिया में मास्‍टर ब्‍लास्‍टर और किक्रेट के भगवान के नाम से जाना जाता है। तेंदुलकर को विश्‍व के सबसे बेहतरीन बल्‍लेबाजों में गिना जाता है। भारत के सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान भारत रत्‍न से सम्‍मनित होने वाले वह सर्वप्रथम खिलाड़ी और सबसे कम उम्र के व्‍यक्ति हैं। राजीव गांधी खेल रत्‍न पुरूस्‍कार से सम्‍मनित एकमात्र क्रिकेट खिलाड़ी हैं। सन 2008 में वे पद्य विभूषण से भी पुरस्‍कृत किये जा चुके है। सन 1989 में अंतर्राष्‍ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण के पश्‍चात्‍ वह बल्‍लेबाजी में कई कीर्तिमान स्‍थापित किए हैं।

उन्‍होंने टेस्‍ट व एक दिवसीय क्रिकेट, दोनों में सर्वधिक शतक अर्जित किये हैं। वे टेस्‍ट क्रिकेट में सबसे ज्‍यादा रन बनाने वाले बल्‍लेबाज हैं। इसके साथ ही टेस्‍ट क्रिकेट में 14000 से अधिक रन बनाने वाले वह विश्‍व के एकमात्र खिलाड़ी हैं। एकदिवसीय मैचों में भी उन्‍हें कुल सर्वाधिक रन बनाने का कीर्तिमान प्राप्‍त है। सचिन एक महान खिलाड़ी होने के साथ-साथ एक अच्‍छे इंसान भी हैं। क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन ने अपनी मेहनत लगन से देश विदेश में अपने काम का लोहा मनवाया है।

सचिन तेंदुलकर का जन्‍म (Sachin Tendulkar Birth)

सचिन तेंदुलकर का जन्‍म 24 अप्रैल 1973 को मुबंई के दादर इलाके के निर्मल नर्सिंग होम में राजपुर के एक मराठी ब्राहाण परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम रमेश तेंदुलकर जो कि एक जाने माने मराठी उपन्‍यासकार थे और माता का नाम रजनी तेंदुलकर है। इनके पिता रमेश तेंदुलकर ने इनका नाम अपने पसंदीदा संगीतकर सचिन देव बर्मन के नाम पर रखा था। सचिन तेंदुलकर अपने पिता की चार सन्‍तानों में से दूसरे क्रम के है इनके बड़े भाई का नाम अजीत तेंदुलकर और छोटे भाई का नितिन तेंदुलकर है सबसे छोटी एक बहन है जिनका नाम सविताई तेंदुलकर है। बड़े भाई अजीत तेंदुलकर ने ही इन्‍हें क्रिकेट खेलने के लिए प्रोत्‍साहित किया था ।

सचिन तेंदुलकर की शिक्षा (Sachin Tendulkar Education)

इन्‍होंने दादर में स्थित शारदा आश्रम विद्या मंदिर से अपनी शिक्षा प्रारंभ की। यहीं पर ये क्रिकेट कोच रमाकांत अचरेकर के संपर्क में आये और अपने क्रिकेट जीवन का प्रारम्‍भ किया । प्रारम्‍भ में ये शिवाजी पार्क में सुबह शाम घंटो क्रिकेट का अभ्‍यास किया करते थे। और बाद में एम आर एफ पेस फाउण्डेशन के अभ्‍यास प्रोग्राम में तेज गेंदबाज बनने हेतु अभ्‍यास किया करते थे परन्‍तु गेंदबाजी के कोच डेनिस लिली ने इनकी बल्‍लेबाजी की प्रतिभा को समझा और इन्‍हें बल्‍लेबाजी पर ध्‍यान केंद्रित करने को कहा और यहीं से इन्‍होंने बल्‍लेबाजी की ओर ध्‍यान देना प्रारम्‍भ किया और विश्‍व के सबसे महान बल्‍लेबाजों में अपना नाम अंकित कराया।

आगे पढ़ें: कल्‍पना चावला का जीवन परिचय, जीवनी, जन्‍म, कैसे मौत हुई थी (Kalpana Chawla Biography)

सचिन का क्रिकेट की दुनिया में आगमन

sachin tendulkar first match

सचिन तेंदुलकर कहते है कि क्रिकेट उनका पहला प्‍यार है, वे इसे बहुत एन्‍जॉय करते हैं। और इससे उन्‍हें एक नई ऊर्जा प्राप्‍त होती है, सचिन को बचपन से क्रिकेट खेलने को शौक था इनका मन पढाई में नही लगता था, ये सारा दिन अपनी बिल्डिंग के सामने दोस्‍तों के साथ क्रिकेट खेलते थे, शुरूआत में ये टेनिस बॉल से प्रेक्टिस करते थे, सचिन के बड़े भाई अजीत ने अपने पिता रमेश तेंदुलकर से चर्चा की, अजीत ने कहा कि हम यादि सचिन को सही मार्गदर्शन करेंगे, तो यह क्रिकेट में कुछ अच्‍छा करने में सक्षम है, सचिन के पिताजी ने सचिन को बुलाया, तब वे केवल 12 वर्ष के थे ओर उन्‍होंने सचिन के मन की बात जानने की कोशिश की और उन्‍हें अपने भविष्‍य के बारे में फैसला लेने को कहा, सचिन का क्रिकेट के प्रति प्रेम देखकर उन्‍हें क्रिकेट का प्रशिक्षण के लिए दाखिला दिलवाया और फिर सीजन बॉल  से इनकी प्रेक्टिस शुरू हुई, इनके गुरू थे रमाकांत आचरेकर, रमाकांत सर ने इनके हुनर को देख इन्‍हें शारदाश्रम विद्या मंदिर हाई स्‍कूल में जाने के लिए कहा, क्‍योंकि इस स्‍कूल की क्रिकेट टीम बहुत अच्‍छी है और यहॉं से कई अच्‍छे खिलाड़ी निकले हैं। आचरेकर सर इन्‍हें स्‍कूल के समय अतिरिक्‍त सुबह शाम  को क्रिकेट की ट्रेनिंग देते थे, इनका कई टीमों में चयन हुआ।

सचिन तेंदुलकर की लव लाइफ और मेरिज लाइफ (Sachin Tendulkar Love Life and Marriage)

Sachin Tendulkar Love Life and Marriage

इनकी पत्‍नी का नाम अजंली तेंदुलकर है, अंजली एक शिशु रोग विशेषज्ञ है और प्रसिद्ध उद्योगपति अशोक मेहता की बेटी है, सचिन का स्‍वाभाव कुछ शार्मिला सा है इसलिए इनकी प्रेम कहानी के बारे में इन्‍होंने कुछ ज्‍यादा बातें कभी भी मीडिया के सामने नही की,इनकी पहली मुलाकात मुंबई एयरपोर्ट पर हुई और फिर इनकी दूसरी मुलाकात एक मित्र के यहॉ हुई, जो कि इन दोनेां को जानता था, अंजली एक मेडिकल की छात्रा है इन्‍हें क्रिकेट में कोई दिलचस्‍पी नही थी, ये नहीं जानती थी कि सचिन एक क्रिकेटर है।

जब इन दोनों का मिलना जुलना का सिलसिला शुरू हुआ, तब अंजली को क्रिकेट में रूचि जागने लगी, जब ये दोनों एक दूसरे से मिले तब अंजली अपनी मेडिकल करियर में प्रेक्टिस कर रही थी और सचिन के क्रिकेट के सफर की शुरूआत हुई थी, सचिन ने अपनी एक पहचान बना ली थी और अब इन दोनों का मिलना इतना आसान नहीं था, क्‍योंकि ये जहॉ भी जाते थे सचिन के फेन इन्‍हें घेर लेते थे, एक बार जब इन दोनों ने कुछ दोस्‍तों के साथ रोजा मूवी जाने का सोचा लेकिन सिनेमा हॉल में अपने फैन्‍स के डर से सचिन ने नकली दाड़ी मुछ लगा कर थिएटर में गए पर इनके फेन इन्‍हें पहचान गए और उन्‍हें घेर लिया और ऑटोग्राफ लेने लगे।

अंजली बताती है कि जब सचिन इंटरनेशनल टूर पर होते थे ,तब सचिन से बात करने के लिए और इंटरनेशनल फोन का बिल बचाने के लिए सचिन को लव लेटर लिखती थी,

 इनका रिश्‍ता 5 साल तक रहा इसके बाद इन्‍होंने शादी करने का फैसला कर लिया, इनकी शादी 24 मई 1995 में हुई, शादी के 2 साल बाद 12 अक्‍टूबर 1997 को इनके घर में बेटी का जन्‍म हुआ, जिसका नाम इन्‍होंने सारा तेंदुलकर रखा 2 वर्ष बाद इनके घर में बेटे का जन्‍म हुआ जिनका नाम अर्जुन रखा गया और इनका परिवार पूरा हुआ, बच्‍चों के बाद अंजली अपना करियर बीच में ही रोकना पड़ा उन्‍होंने सारा ध्‍यान अपने बच्‍चों की परवरिश में लगाया,इन्‍होंने अपने एक इंटरव्‍यू में बताया है कि अपने करियर को छोड़ने का इन्‍हें कोई दुख नही है ये अपने पति और बच्‍चो को समय देना ज्‍यादा पसंद करती है, और इन्‍होंने एक आदर्श मॉ और पत्‍नी का फर्ज निभाया है और सफल वैवाहिक जीवन की स्‍थापना की है।

सचिन तेंदुलकर का करियर (Sachin Tendulkar Career)

  • सचिन का क्रिकेट करियर सभी मौजूदा और आने वाले खिलाडि़यों के लिए मार्गदर्शन है, इसके लिए उनके पिता, भाई और सबसे महत्‍वपूर्ण उनके कोच सर आचरेकर ने मुख्‍य भूमिका निभाई, सचिन बहुत ही परिश्रमी है उन्‍होंने इस मुकाम को हासिल करने में अपनी जी जान लगा दी।
  • सन्‍ 1988 में इन्‍होंने राज्‍य स्‍तरीय मैच में मुंबई टीम से खेल कर अपने करियर का पहला शतक बनाया, इस मैच में इनका प्रदर्शन देखकर इनका चयन नेशनल लेवल पर हो गया, 11 महीने के बाद इंडिया पाकिस्‍तान के मैच में पहली बार इन्‍होंने इंडिया की तरु से क्रिकेट खेला।
  • सचिन का फर्स्‍ट अंतरर्राष्‍ट्रीय मैच पाकिस्‍तान के साथ 16साल की उम्र में हुआ, तब इन्‍होंने अपना जोरदार प्रदर्शन किया और इस मैच में इन्‍हें नाक पर चोट लगी और जोरदार खून निकलने लगा , लेकिन इन्‍होंने हार नही मानी और इच्‍छा प्रदर्शन किया और पाकिस्‍तानी टीम के खिलाडि़यों के छक्‍के छुड़ा दिए।
  • 1990 में इन्‍होंने अपना पहला टेस्‍ट मैच खेला, जो कि इंडिया और इंग्‍लैंड के बीच था, और यहॉ इन्‍होंने शतक बनाकर कम उम्र में शतक बनाने का रिकॉर्ड बनाया।
  • इनका प्रदर्शन से सभी मोहित थे, इसलिए इन्‍हें 1996 के वर्ल्‍ड कप में टीम इंडिया का कप्‍तान बनाया गया, 1998 में ये दोबारा कप्‍तान छोड़ दी पर 1999 में ये दोबारा कप्‍तान बनाए गए, लेकिन इनकी कप्‍तानी टीम को रास नही आई और इन्‍होंने 25 में से केवल 4 ही टेस्‍ट मैच में विजय प्राप्‍त, की इसलिए इन्‍होने कप्‍तान का पद त्‍याग दिया और दोबारा फिर कभी कप्‍तान नही बनने का फैसला लिया।
  • सन्‍ 2001 में वनडे मैच में दस हजार रन बनाने वाले ये प्रथम क्रिकेटर बने, 2003 का समय इनका सुनहरा समय था, इनके चाहने वाले बढते जा रहे थे, 2003 मे सचिन 11 मैचों में 673 रन बनाए और टीम इंडिया को विजय के छोर तक ले गए और सभी के पसंदीदा खिलाड़ी बन गए।
  • वर्ल्‍ड कप के फाइनल में इंडिया और आस्‍टेलिया के बीच मैच हुआ जिसमे इंडिया की हार हुई, परंतु यहां सचिन को मेन ऑफ द मैच का खिताब मिला।
  • इसके बाद सचिन ने कई मैच में हिस्‍सा लिया और एक समय इन्‍होंने बहुत बुरा समय भी देखा जब उनके ऊपर मैच हराने का आरोप लगने लगे, पर इन्‍होंने किसी भी बात पर ध्‍यान ना देते हुए अपने खेल पर ध्‍यान दिया और आग बढ़ते गए ऊचाइयों के शिखर को छू लिया।
  • 2007 में इन्‍होंने टेस्‍ट मैच में11 हजार रन बनाने का रिकॉर्ड बनाया, इसके बाद साल 2011 के वर्ल्‍ड कप में ये फिर अपनी पूरी ताकत के साथ सामने आए इन्‍होंने दोहरा शतक मारा और सीरीज में 482 रन बनाए।
  • 2011 के वर्ल्‍ड कप फाइनल में इंडिया की जीत हुई, सचिन ने बचपन से जो सपना देखा वह साकार हुआ ये उनकी वर्ल्‍ड कप में पहली जीत थी।
  • अपने करियर के सारे वर्ल्‍ड कप मिला कर ये 2000 रन और 6 शतक मारने वाले प्रथम क्रिकेटर बने, ये रिकॉर्ड अभी तक कोई क्रिकेटर नहीं बना पाया है।

सचिन तेंदुलकर का टेस्‍ट मैच रिकार्ड्स (Test Match Record)

सचिन तेंदुलकर ने टोटल 200 टेस्‍ट मैच खेले है जिसमें 51 शतक और 68 अर्धशतक बनाई है इनके टेस्‍ट मैच का प्रदर्शन

बेंटिगबोलिंग
इनिंरन रिकॉर्डस329बेस्‍ट इनिग्‍ंस145
नॉट आउट33विकेट्स46
फोर रन रिकॉर्ड2058इकोनोमिक्‍स रेट3.53
सिक्‍स रन रिकॉर्ड69बाल्‍स424 0
सबसे ज्‍यादा रन248  
औसत53  
स्‍कोरिंग रेट54 08  
अर्धशतक      68      
शतक51  

सचिन ODI मैच रिकार्ड्स (Sachin ODI Match Record)

सचिन तेंदुलकर ने 463 वन डे मैच में अपना प्रदर्शन किया है और 49 शतक और 96 अर्धशतक बनाई है, इनके वनडे मैच का रिकॉर्ड

बेटिंगबोलिंग
इनिंरन रिकॉड्र्स452बेस्‍ट इनिग्‍ंस270
नॉट आउट41विकेट्स154
फोर रन रिकॉर्ड2016इकोनोमिक्‍स रेट5.1
सिक्‍स रन रिकॉर्ड195बाल्‍स685 0
सबसे ज्‍यादा रन200  
औसत44.8 3  
स्‍कोरिंग रेट86.2 4  
अर्धशतक96  
शतक49  

सचिन तेंदुलकर की टी-20 मैच रिकार्ड्स (Sachin Tendulkar T-20 Match Record)

इन्‍होंने केवल एक टी- 20 मैच खेला है ,इस मैच में इन्‍होंने 10 रन बनाए और चौके मारे है,इनके टी- 20 मैच के रिकॉर्ड की जानकारी

बेंटिगबोंलिग
इनिंरन रिकॉर्डस1बेस्‍ट इनिंग्‍स1
नॉट आउट विकेट्स1
फोर रन रिकॉर्ड2इकोनोमिक रेट4.8
सिक्‍स रन रिकॉर्ड बाल्‍स15
सबसे ज्‍यादा रन10  
औसत10  
स्‍कोरिंग रेट83.3  
अर्धशतक   
शतक   

सचिन तेंदुलकर के आईपीएल मैच रिकॉर्ड्स (IPL Match Record)

इन्‍होंने अपने करियर में आईपीएल के कुल 78 मैच खेले, जिसमे 295 चौके और 29 छक्‍के मानकर, एक शतक और 13 अर्धशतक बनाया।

बेंटिगबोंलिग
इनिंरन रिकॉर्डस78बेस्‍ट इनिंग्‍स4
नॉट आाउट9विकेट्स 
फोर रन रिकॉर्ड295इकोनोमिक्‍स रेट9.6 7
सिक्‍स रन रिकॉर्ड29बाल्‍स36
सबसे ज्‍यादा रन100  
औसत33.8 3  
स्‍कोंरिग रेट119.8 2  
अर्धशतक13  
शतक1  

सचिन का क्रिकेट से संन्‍यास (Sachin Tendulakar Retirement)

इस महान खिलाड़ी ने आज तक जो कीर्तिमान हासिल किया है, क्रिकेट की दुनिया में इसे कोई नहीं छू पाया है, जब सचिन ने क्रिकेट से संन्‍यास लेने का फैसला लिया, तो इनके चाहने वाल को बहुत बड़ा आहात लगा, इनके इस निर्णय को विरोध भी किया गया, लेकिन दिसंबर 2012 में इन्‍होंने वन डे मैच से सन्‍यास लेने का फैसला लिया जनवरी 2013 में इन्‍होंने क्रिकेट से रिटायरमेंट ले लिया, जब मीडिया द्वारा ये बात दूर दूर फैली तो इनके इस फैसले से कई लोगों के दिल टूट गए और उन्‍हें इस फैसले से अपने पैर पीछे लेने की गुहार लगाई गई, लेकिन सचिन अपनी इस बात पर अटल रहे, इन्‍होंने अपने पूरे करियर में 34000 रन बनाए, जिसमें 100 शतक भी शामिल की, आज तक इस रिकॉर्ड को कोई अन्‍य खिलाड़ी तोड़ नहीं पाया।

सचिन तेंदुलकर इंटरनेशनल डेब्‍यू (International Debut of Sachin Tendulkar)

  1. ओ डी आई (IOD) – 18 दिसंबर 1989 इंडिया और पकिस्‍तान गुजरांवाला
  2. टेस्‍ट (Test) – 15 नवंबर 1989 इंडिया  और पाकिस्‍तान कराची
  3. टी-20 (T-20) – 1 दिसंबर 2006 इंडिया और साउथ अफ्रीका जोंसबर्ग

सचिन तेंदुलकर सम्‍मान और पुरस्‍कार (Sachin Tendulkar Awards)

अवार्ड (Award)सन (Year)
सचिन ने जीता भारत रत्‍न2013
पद्यश्री1999
विसडन क्रिकेटर ऑफ द इयर1997
राजीवगांधी खेलरत्‍न अवार्ड1997
पद्य विभूषण2008
सर गरफील्‍ड सोबर्स ट्राफी2010
विसडन लीडिंग क्रिकेटर इन द वर्ल्‍ड2010
महाराष्‍ट्र भूषण अवार्ड2001
एल जी पीपल्‍स चॉइस अवार्ड2010
आउटस्‍टैंडिग अचीवमेंट इन स्‍पोट्स2010
अर्जुन अवार्ड1994
आई सी सी ओ डी आई टीम ऑफ द इयर2010,2007, 2004
कैस्‍ट्रोल इंडियन क्रिकेटर ऑफ द इयर2011
विडसन इंडिया आउटस्‍टैंडिग अचीवमेंट अवार्ड2012
वर्ल्‍ड टेस्‍ट2011,2010
पीपल्‍स चॉइस अवार्ड2010
बी सी सी आई क्रिकेटर ऑफ द इयर2011

सचिन तेंदुलकर लेटेस्‍ट न्‍यूज (कोविड- 19 पॉजिटिव)

वर्ष 2021 मार्च में सचिन तेदुंलकर कोविड-19 से पॉजिटिव डिक्‍लेयर किए गए उन्‍होंने स्‍वयं इस बात की पुष्टि अपने ट्विटर अकांडट से की । सचिन के अनुसार उन्‍हें कोविड-19 से संबंधित कुछ लक्षण अपने आप से महसूस हो रहे थे डॉक्‍टर से बातचीत से बाद पुष्टि करने के बाद उन्‍होंने सोशल मीडिया के जरिए अपने फैंस और मीडिया को इस बात की जानकारी दी सचिन ने यह बताया कि डॉक्‍टर के द्वारा बताए गए सारे निर्देशों का पालन कर रहे हैं, उनके परिवार के बाकी सभी कोविड-19 नेगेटिव पाए गए हैं इसीलिए वह स्‍वंय घर में आइसोलेटेड हैं और सारे सरकारी नियमों का पालन कर रहे हैं।

Leave a Comment